Loading

 

सराफत का चेहरा पहचानना आसान नहीं,

नियत नापने की मशीन होनी चाहिए।

 

 

 

 किस की क्या मज़बूरी है कौन  जाने,

आदत है या जजूरी है कौन जाने?

 

 

शरीर, पत्नी, माता-पिता पर जात्तियां चिपटी नहीं हैं,

अजीर्ण है तो, खट्टी डकारें मछली रूकती नहीं।

 

 

Lokesh Rusia
Follow Him:

Facebook Comments

Top
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: