Loading

 

रोज़ रोज़ की तूँ तूँ-मैं मैं,

पति पत्नी की झेँ झेँ-पैं पैं,

ठैंन, चैन, बेचैन करे,

ताल मेल की कमी, तराजू सी डोले,

नींद न आये, सैन करबट में बोले,

मन में न कुछ, इन के उन के,

लेकिन, पहले कौन बोले। 

 

Lokesh Rusia
Follow Him:

Facebook Comments

Top
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: